-:: अनमोल मोती – 389 ::-

१. हज़रते मुग़ैरा रदियल्लाहो तआला अन्होसे रिवायत है के सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम का इरशाद है के “बेशक अल्लाह तआलाने तुम लोगो पर माँओ की ना-फ़रमानी हराम फ़रमादी है.” (हवाला:- बुखारी शरीफ)

२.  सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम का इरशाद है के माँ-बापकी ना-फ़रमानी करनेसे बचो, इस लिए के जन्नतकी खुशबू हज़ार बरसकी राह तक आती है, और माँ-बापकी ना-फ़रमानी करनेवाला उसकी खुश्बू भी न सूंघ सकेगा, और इसी तरह रिश्ता तोड़नेवाला, झीना करनेवाला बूढ़ा शख्स और तकब्बुर से अपनी इजार टखनोसे नीचे लटकानेवाला भी जन्नतकी खुश्बू न पाएगा.

३. हज़रते अबूबकर सिद्दीक रदियल्लाहो तआला अन्होसे रिवायत है के  सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमका इरशाद है के “क्या में तुम लोगोको बडे से बड़े गुनाह से खबरदार न करू? सहाबा-ऐ-किरामने अर्ज़ की के ज़रूर आगाह फरमाए. फ़रमाया के अल्लाह तआला के साथ किसी को शरीक ठहराना और माँ-बापकी ना-फ़रमानी करना, यह दोनों सबसे बड़े गुनाह है. फिर आगे फ़रमाया के झूठी गवाही देना भी बहुत बड़ा गुनाह है”. (हवाला:- तिर्मिज़ी शरीफ)

४. जो बद-नसीब लोग माँ-बापकी ना-फ़रमानी करते है और उनका हुक्म नहीं मानते वोह मरनेके बाद जन्नत और उसकी नेअमतोंसे  महरूम रहेंगे.  सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम का इरशाद है के “मन्नान, माँ-बापका ना-फरमान और शराबी यह तीनो शख्स जन्नतमे दाखिल न होंगे. (हवाला:- निसाई शरीफ)

५. आए दिनका मुशाहदा व् तजुर्बा है के लोग अपनी आंखोसे देखते है के जो लोग अपने माँ-बापकी ना-फ़रमानी करके उनका दिल दुखाते है, अल्लाह तआला उन पर इताब नाज़िल फरमाता है और उनको दुन्या में ही सजा फरमाता है और उन्हें जलील व् रुशवा कर देता है.  सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम का इरशाद है के “अल्लाह तआला (शिर्क व् कुफ्र के अलावा) जिस गुनाह को चाहे बख्श देगा मगर माँ-बापकी ना-फ़रमानी करनेवालेको नहीं बख्शेगा, बल्कि मरनेसे पहले दुन्यामे भी सजा देगा.

६. हदीशसे साबित है के माँ-बापकी फरमाबरदारी व् खिदमत गुज़री औलाद पर लाज़िम है, औलाद इसे अपने लिए बोज न महसूस करे, बल्कि शरफ़ व् सआदत ख्याल करे. सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम का इरशाद है के ब-मुजीब माँ-बापकी खिदमत नफ्ली इबादतसे अफ़ज़ल व् बेहतर है. हजरते मुआविया सलमी रदियल्लाहो अन्होसे मरवी है के उनके वालिद ने बारगाहे रिसालतमे हाज़िर होकर अर्ज़ की के या रसूलुल्लाह !(सल्लल्लाहो अलयहे व् सल्लम) में जिहाद में जाना चाहता हूँ”  सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम ने फ़रमाया  के तुम्हारी वालिदह ज़िंदा है या नहीं? उन्होंने अर्ज़ की के मेरी वालीदह बा-हयात है. यह सुनकर सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम ने इरशाद फ़रमाया के तुम माँ की खिदमत अपने ऊपर लाज़िम कर लो, इस लिए के जन्नत माँ के कदमोमे है.

७. एक दूसरी रिवायतमे है के हज़रते अबू सईद खुदरी रदियल्लाहो तआला अन्होसे रिवायत है के एक शख्स यमनसे हिजरत करके मदीना मुनव्वरा आ गया. जब सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमको खबर हुई तो उस शख्स को अपने पास बुला कर दरयाफ्त फ़रमाया के यमनमे तुम्हारे रिश्तेदार है या नहीं? उसने अर्ज़ की के वहां मेरे माँ-बाप है. सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमने यह सुन कर फ़रमाया के उन्होंने तुम्हे यहाँ आनेकी इज़ाज़त दी है या नहीं? उसने कहा के इज़ाज़त तो नहीं दी है. सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमने फ़रमाया के तो फिर तुम यमन वापस जाओ और उनकी खिदमत करो. (हवाला:- अबुदावूद शरीफ)

८. माँ-बेआपकी रज़ा और ख़ुशनूदीसे अल्लाह तबारक व् तआलाकी राजा और ख़ुशनूदी हासिल होती है, और उनकी नाराजगीसे परवरदिगारे आलम ना-खुश और नाराज़ होता है. औलादको सोचना चाहिए और सोचकर खुद ही फैसला करना चाहिए के जिस बंदेसे अल्लाह अज़वजल्ल नाराज हो, उसे फिर दुन्या व् आख़ेरतमे कहा ठिकाना मिलेगा.

९. हज़रते अब्दुल्लाह इब्ने ओमर रदियल्लाहो तआला अन्होसे रिवायत है के सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमका इरशाद है के अल्लाह तआला की ख़ुशनूदी बापकी ख़ुशनूदी और उसकी नाराजगी बापकी नाराजगी में है.

१०. हज़रते अबुल दर्दा रदियल्लाहो तआला अन्होसे रिवायत है के  सरकारे दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमका इरशाद है के जन्नतके दरवाजोमेसे बेहतरीन दरवाजा बाप है, तुझे इख्तियार है के तू उसकी हिफाज़त कर या जाएए कर दे. (हवाला:- तिर्मिज़ी शरीफ)

Advertisements

About aelan

નામ : અબ્દુલ રશીદ મુનશી જન્મ તારીખ : ૧૫/૦૭/૧૯૫૪ જન્મ ભૂમિ : જુનાગઢ (Saurashtra) Gujarat-India અભ્યાસ : એમ.એ., બી.એડ. એલ.એલ.બી. વ્યવસાય : ઓફીસ અધ્યક્ષ સ્થળ : સ્વામી વિવેકાનંદ વિનય મંદિર, જુનાગઢ. મોબાઈલ નંબર : ૦૯૪૨૮3૭૮૬૬૪ ઈ-મેલ : arashidmunshi@gmail.com
This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

One Response to -:: अनमोल मोती – 389 ::-

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  બદલો )

Connecting to %s