-:: अनमोल मोती – 375 ::-

१. सैयदना मौला अली रदियल्लाहो तआला अन्हो को खुद रसूले अकरम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम कुर्राने पाककी तालीम दिया करते थे.

२. सबसे पहले सैयदना जेब्रेइल अलैहिस सलामने अर्शे इलाहीकी अज़मत को देख कर “सुब्हानल्लाह” कहा.

३. सबसे ज़यादह अlहादीसे करीमा सैयदना अबु होरैरह रदियल्लाहो तआला अन्होंसे मरवी है.

४. सैयदना यूसुफ़ अलैहिससलामको उनके भाइयोंने सौदागरोंके हाथ 20 दिरहम में बेचा था.

५. सैयदना ईसा अलैहिससलाम 33 तेतीस सालकी उम्र पाकमें आसमान पर उठा लिए गए.

६. सैयदना उज़ैर अलैहिससलाम इन्तेकालके बाद 100 सो सालके बाद फिर ज़िंदा होकर फिर अपनी कॉम में आये.

७. सैयदना आदम अलैहिससलाम सात लाख ज़ुबान जानते थे.

८. सरकारें दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लमकी कब्रे मुबारक हज़रात अबु तल्हा रदियल्लाहो अलयहे वसल्लमने तैयारकी थी.

९.  कुर्राने मजीदको सबसे पहले मुसाहफमे सैयदना अबूबकर सिद्दीक़ रदियल्लाहो तआला उन्होंने जमा किया.

१०. सैयदना हज़रत ओमर रदियल्लाहो तआला अनहोकी नेकिया आसमानके सितारोंके बराबर है.

११. सैयदना हज़रत उस्माने गनी रदियल्लाहो तआला अन्होकी सफाअतसे 70.000 जहन्नमी जन्नतमे जाएगे.

(B). अज़वजह अज़वजल्ल इरशाद फरमाता है के…

१.  जिसने अपने नफ़्सको वासनासे रोका तो उसका ठिकाना जन्नत है.

२. जो कुछ तुम्हारे पास है वोह पूरा हो जाएगा और जो अल्लाह तआलाके पास है बाकी रहेगा.

३. जो बन्दा अल्लाह अज़वजल पर भरोसा रखता है फिर अल्लाह अज़वजल उसके लिए काफी है.

४. पता चल जाए के यह शख्स ज़ालिम है तो फिर उसके पास न बैठो.

५. बेशक! कान, आँख, दिल इन सबको पूछा जाएगा.

६. अल्लाह तआला इमांनवालोंका बदला बर्बाद नाही होने देता

७. अल्लाह अज़वजल काफिरो और मुशरिको को कभी मोआफ नहीं करेगा.

८. बेशक! किताबी काफिरो (ईसाई और यहूदी) और मुशरिकोकों हमेशाके लिए दोजककी आगमें रहना पडेगा.

९. मेरी रहमत हर चीज़ को घेर लेती है.

१०. बेशक! ईमानवालोकी नमाज़े जनाज़ा पढ़ो क्यों के तुम्हारी नमाज़ उनके लिए शांति-शुकुनका सबब है.

११. इज़्ज़त अल्लाह अज़वजल्ल, सरकार दोआलम सल्लल्लाहो अलयहे वसल्लम और इमानवालोके लिए है.

१२. मोअमीन के लिए इस दुन्यामे आराम नहीं.

१३. अमल करो, तक़दिरका बहाना ना करो.

१४. पहले अपनी इस्लाह करो, फिर दूसरोंकी फ़िक्र करो.

१५. तेरे इखलासकी तारीफ़ (पहचान) यह है के तू लोगोकी तारीफ़ व्  मज़म्मत (निंदा-बुराई) की तरफ ध्यान ना दे.

१६. मोमिन ज्यूँ-ज्यूँ बूढा होता है त्यु-त्यु उसका ईमान ज़यादह मजबूत  होता है.

१७. अल्लाह तआलाके करीब वोही होता है जो मखलूक पर महेरबान होता है.

१८. मौतको याद करनेसे मुसीबत कम हो जाती है.

१९. तकब्बुर करनेवालेका सर नीचा होजाता है.

२०. सूफी वोह है जिसका जाहिरी और बातिनी साफ़ हो.

२१. तुम दुन्या के पीछे पड़े हो मगर दुन्या अल्लहवालोके पीछे फिरती है.

२२. तमाम खुशयोंका मजमुवा (संग्रह) इल्म शिखना, फिर उसपर अमल करना और फिर दुसरो तक पहुचाना.

Advertisements

About aelan

નામ : અબ્દુલ રશીદ મુનશી જન્મ તારીખ : ૧૫/૦૭/૧૯૫૪ જન્મ ભૂમિ : જુનાગઢ (Saurashtra) Gujarat-India અભ્યાસ : એમ.એ., બી.એડ. એલ.એલ.બી. વ્યવસાય : ઓફીસ અધ્યક્ષ સ્થળ : સ્વામી વિવેકાનંદ વિનય મંદિર, જુનાગઢ. મોબાઈલ નંબર : ૦૯૪૨૮3૭૮૬૬૪ ઈ-મેલ : arashidmunshi@gmail.com
This entry was posted in Uncategorized. Bookmark the permalink.

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / બદલો )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / બદલો )

Connecting to %s